12वीं के बाद यूपीएससी की तैयारी कैसे करें (How to Prepare for UPSC after 12th in Hindi) – IAS, IPS कैसे बने

12वीं के बाद यूपीएससी की तैयारी कैसे करें – 12वीं के बाद यूपीएससी की तैयारी कैसे करें (How to Prepare for UPSC after 12th in Hindi), यह वो प्रश्न है जिसका जवाब आज के मोबाइल व 5G वाले युग में हर युवा तलाश रहा है। कक्षा 12वीं उत्तीर्ण करने के बाद बहुत से छात्रों का आईएएस बनने का सपना होता है। कई युवा इस बात को जानने के लिए उत्सुक रहते हैं कि बिना ध्यान भटकाए, एकाग्रचित्त होकर 12वीं के बाद यूपीएससी की तैयारी कैसे करें (How to Prepare for UPSC after 12th in Hindi) क्योंकि किसी भी तैयारी के लिए एक रणनीति का होना बेहद आवश्यक है। आज हम इस लेख में आपको 12वीं कक्षा के बाद खुद को आईएएस (IAS), आईपीएस (IPS) या यूपीएससी (UPSC) की परीक्षा की तैयारी करने तथा आईएएस (IAS), आईपीएस (IPS) बनने के लिए कैसे प्रोत्साहित करें, इसके बारे में बताएंगे। यह लेख आपको आईएएस, आईपीएस या यूपीएससी (UPSC) परीक्षा से संबंधित पूर्ण जानकारी प्रदान करेगा। अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए 12वीं के बाद यूपीएससी की तैयारी कैसे करें (How to Prepare for UPSC after 12th in Hindi) के इस हिंदी लेख को पूरा पढ़े।

आईएएस की तैयारी कैसे करें? (How to Prepare for UPSC IAS)

12 वीं कक्षा पास करने के बाद हमारे मन में करियर से संबंधित बहुत से विचार या शंकाएं होती है कि हम किस क्षेत्र में परिश्रम करके अपने करियर को ऊंचाइयों तक पहुंचाएँ। हमारे सामने बहुत से विकल्प भी होते हैं, परन्तु अपने आप को किसी प्रतिष्ठित पद पर देखना हर छात्र का सपना होता है। भारत सरकार में सबसे उच्च पद आईएएस (IAS) ,आईपीएस (IPS) का होता है। जिसे भारतीय प्रशासनिक सेवा (Indian Administrative Service) तथा भारतीय पुलिस सेवा ( Indian Police Service) के नाम से जाना जाता है। अब प्रश्न यह उठता है कि क्या हमे सीधा 12वीं पास करने के बाद आईएएस (IAS), आईपीएस (IPS) या यूपीएससी (UPSC) की तैयारी में जुट जाना चाहिए या हमें अपनी ग्रेजुएशन पूरी होने तक का इंतज़ार करना चाहिए।

हमेशा से ही कहा जाता है कि यदि किसी लक्ष्य को प्राप्त करना हो तो उसकी तैयारी जितनी जल्दी शुरू की जायेगी लक्ष्य भी उतना ही जल्दी प्राप्त किया जा सकता है। यदि आप अपनी ग्रेजुएशन पूरी होने का इंतज़ार करेंगे तो ऐसे में आपके तीन या चार साल व्यर्थ हो सकते है, इससे बेहतर है कि आप उन तीन वर्षो का बेहतर तरीके से उपयोग करके आईएएस (IAS), आईपीएस (IPS) में अपने आप को प्रतिस्पर्धा में दूसरों से आगे निकाल लेने का प्रयास करें।

आईएएस की तैयारी कैसे करें? (How to Prepare for UPSC after 12th in Hindi) – 10वीं और 12वीं में आईएएस के लिए प्रतिशत चाहिए?

अक्सर छात्रों के मन में यह प्रश्न उठता है कि आईएएस बनने के लिए उन्हें 10वीं और 12वीं तथा ग्रेजुएशन में कितने प्रतिशत अंक चाहिए होंगे। छात्रों को केवल इन कक्षाओं में उत्तीर्ण होना आवश्यक है। यूपीएससी ने आईएएस की परीक्षा के लिए कोई न्यूनतम अंक निर्धारित नहीं किए है, उम्मीदवारों का किसी भी विषय में स्नातक/ ग्रेजुएट होना आवश्यक है।

आईएएस की तैयारी कैसे करें? – UPSC के लिए योग्यता 2023

जैसा कि ऊपर बताया गया है कि आईएएस की परीक्षा में बैठने के लिए आपको किसी भी विषय में स्नातक/ ग्रेजुएट होना आवश्यक है। यदि आप 12वीं के बाद सीधे आईएएस की तैयारी करना चाहते है तो आपको स्नातक के लिए ऐसे विषय का चयन करना चाहिए जो आपको इस परीक्षा में एडवांटेज प्रदान करें। अर्थात आपका एक विषय का कोर्स आप स्नातक के माध्यम से पूरा कर सकते है।

12वीं के बाद यूपीएससी की तैयारी कैसे करें (How to Prepare for UPSC after 12th in Hindi) – आईएएस, आईपीएस, यूपीएससी तैयारी के लिए रणनीति

सबसे पहले आपको स्पष्ट होना चाहिए कि आप इस लक्ष्य को प्राप्त करना चाहते हैं क्योंकि आईएएस (IAS), आईपीएस (IPS) बनने का लक्ष्य प्राप्त करना बहुत कठिन है, यूपीएससी (UPSC) की परीक्षा में बैठने वाले केवल दो प्रतिशत लोग ही इसमें सफल हो पाते हैं। इसी कारण जल्दी तैयारी शुरू करना महत्वपूर्ण है। बेहतर यह है कि आप 12वीं पास करने के तुरंत बाद और अपनी ग्रेजुएशन के दौरान आईएएस के लिए मेहनत करना आरंभ कर दें।

12वीं के बाद यूपीएससी की तैयारी कैसे करें (How to Prepare for UPSC after 12th in Hindi) – सिविल सेवा परीक्षा पैटर्न

यूपीएससी (UPSC) की तैयारी शुरू करने से पहले आपको इसके परीक्षा पैटर्न की जानकारी होनी बेहद आवश्यक है। भारतीय प्रशासनिक सेवा या सिविल सेवा की परीक्षा यूपीएससी यानी यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन (UPSC) या संघ लोक सेवा आयोग द्वारा प्रत्येक वर्ष आयोजित की जाती है। यूपीएससी (UPSC) की परीक्षा में सामान्य वर्ग के छात्रों के लिए आयु सीमा 32 वर्ष है तथा उन्हें छ: बार परीक्षा में बैठने का अवसर दिया जाता है। इसके अलावा एससी और एसटी छात्रों के लिए आयु सीमा 35 वर्ष है तथा महिलाओं के लिए भी यह आयु सीमा 35 वर्ष है तथा उनके लिए एटेम्पट निर्धारित नहीं है।

यूपीएससी (UPSC) परीक्षा के लिए आवेदन करने के लिए सामान्य वर्ग के छात्रों को ₹100/- का भुगतान करना होता है जबकि एससी/ एसटी छात्रों तथा महिला वर्ग के छात्रों के लिए कोई शुल्क देय नहीं है। आईएएस (IAS) या यूपीएससी (UPSC) परीक्षा के लिए आवेदन मूलतः फरवरी माह में जारी किए जाते है।

यूपीएससी (UPSC) की परीक्षा मूल रूप से तीन भागो में विभाजित होती है सबसे पहले प्राथमिक या प्रिमिलेरी परीक्षा का आयोजन किया जाता है जिसमे 2 पेपर एक ही दिन में आयोजित किए जाते हैं:

  • सामान्य अध्ययन (General Studies)
  • प्रशासनिक सेवा एप्टीट्यूड टेस्ट (CSAT)

12वीं के बाद यूपीएससी की तैयारी कैसे करें (How to Prepare for UPSC after 12th in Hindi) – आईएएस की तैयारी के लिए सब्जेक्ट – यूपीएससी के लिए इम्पोर्टेन्ट सब्जेक्ट

यूपीएससी (UPSC) के पहले पेपर में करंट अफेयर्स, इतिहास, राजनितिक विज्ञान, सामान्य विज्ञान, पर्यावरण, अर्थव्यवस्था आदि सब्जेक्ट से प्रश्न पूछे जाते हैं, तथा दूसरे पेपर में संख्यात्मक अभियोग्यता, रीजनिंग, अंग्रेजी आदि सब्जेक्ट से प्रश्न पूछे जाते हैं।

यूपीएससी की तैयारी के लिए बुक – प्राथमिक (प्री) परीक्षा के लिए

  • आधुनिक भारत का इतिहास – विपिन चंद्रा
  • भारत की राज्यव्यवस्था – एम लक्ष्मीकांत
  • भारत का भूगोल – माजिद हुसैन
  • सामान्य विज्ञान- लुसेंट
  • विज्ञान और प्रौद्योगिकी- शीलवंत सिंह
  • विश्व का इतिहास – कुमार नलिन
  • पर्यावरण-डी.आर खुल्लर
  • भारत का इतिहास- के. कृष्ण रेड्डी

यह कुछ महत्वपूर्ण पुस्तकें है जो एक विद्यार्थी को आईएएस या यूपीएससी (UPSC) की प्राथमिक परीक्षा के प्रथम पेपर को उत्तीर्ण करने के लिए पढ़ना चाहिए इसके साथ ही कम से कम पिछले 2 वर्ष के करंट अफेयर्स का ज्ञान भी होना चाहिए। इसके अलावा दूसरी परीक्षा के लिए छात्रों को संख्यात्मक अभियोगिता, रीजनिंग और अंग्रेजी की मूलभुत जानकारी होनी चाहिए। यह दोनों ही परीक्षा 200-200 अंको की होती है, प्रथम पेपर में 100 प्रश्न होते हैं जबकि दुसरे पेपर में 80 प्रश्न होते है, इनकी समयावधि 2 घंटे होती है, पहली परीक्षा में संघ लोक सेवा आयोग द्वारा निर्धारित कट-ऑफ प्राप्त करना जरुरी होता है जबकि दूसरी परीक्षा केवल क्वालीफाइंग होती है इसमें छात्र को 200 में से केवल 66 अंक प्राप्त करना आवश्यक होता है। परन्तु इन परीक्षाओं में प्राप्त अंको को अंतिम अंको में नहीं जोड़ा जाता है, यह परीक्षाएं आपको केवल उत्तीर्ण करनी होती है।

यूपीएससी (UPSC) की प्राथमिक परीक्षा में उत्तीर्ण होने के बाद छात्र मुख्य(मैन्स) परीक्षा में भाग ले सकते हैं, मुख्य परीक्षा में कुल 9 परीक्षाएं आयोजित की जाती है, जो 2 प्रकार के पेपर में विभाजित होती है, यह परीक्षाएं इस प्रकार हैं:

  • पेपर A : छात्रों को इस परीक्षा में हमारे संविधान में मान्य और प्रदान की गई भाषाओ में से किसी एक में 300 अंको की परीक्षा देनी होती है।
  • पेपर B : दूसरी परीक्षा अंग्रेजी विषय की होती है जो 300 अंको की होती है।

इन दोनों ही परीक्षाओं को क्वालीफाई करना बेहद आवश्यक है इसमें कम से कम आपको 25 प्रतिशत अंक प्राप्त करना होता है। यदि आप अन्य सभी परीक्षा पास कर लेते हैं और इन परीक्षाओं को उत्तीर्ण नहीं कर पाते तो आपको योग्य नहीं माना जाएगा। इसलिए इन परीक्षाओं में उत्तीर्ण होना आवश्यक है।

12वीं के बाद यूपीएससी की तैयारी कैसे करें (How to Prepare for UPSC after 12th in Hindi) – यूपीएससी (UPSC) की अन्य 7 परीक्षाओं के बारे में जानकारी इस प्रकार है:

  • पेपर 1 : निबंध- लेखन

यह परीक्षा 250 अंक की होती है इस परीक्षा में आपको किसी भी विषय पर निबंध लिखने के लिए कहा जा सकता है। इस परीक्षा को उत्तीर्ण करने के लिए छात्र को अपने लेखन- कौशल को बेहतर बनाना चाहिए।

  • पेपर 2 : सामान्य अध्ययन 1

यह भी 250 अंको की परीक्षा होती है इसमें भारतीय इतिहास, भूगोल, तथा विश्व इतिहास और समाज शास्त्र शामिल हैं।

  • पेपर 3 : सामान्य अध्ययन 2

यह भी 250 अंको का प्रश्न-पत्र हैं इसमें भारत की राज-व्यवस्था, भारतीय संविधान, विदेशों से भारत का संबंध, सामाजिक न्याय आदि विषय से प्रश्न पूछे जाते हैं।

  • पेपर 4 : सामान्य अध्ययन 3

यह भी 250 अंको का प्रश्न पत्र होता है इसमें आपातकालीन सुरक्षा, भारतीय अर्थव्यवस्था, जैव-विविधता और पर्यावरण, सुरक्षा तथा तकनीकी ज्ञान शामिल है।

  • पेपर 5 : सामान्य अध्ययन 4

सामान्य अध्ययन का पेपर भी 250 अंको का होता हैं इसमें नैतिक शास्त्र, योग्यता, सार्वभौमता विषय से प्रश्न आते हैं।

अन्य दो प्रश्न पत्र भी 250 अंको के होते है परन्तु यह वैकल्पिक विषयों से होते हैं, जिनका छात्र अपनी रूचि के अनुसार चयन करते हैं। युपीएससी की सभी मुख्य परीक्षाएं प्राय: तीन घंटें की होती है और यह सब्जेक्टिव प्रकृति के होते हैं।

12वीं के बाद यूपीएससी की तैयारी कैसे करें (How to Prepare for UPSC after 12th in Hindi) – आईएएस (IAS),आईपीएस (IPS) या यूपीएससी (UPSC) साक्षात्कार

आईएएस (IAS) या आईपीएस (IPS) या यूपीएससी (UPSC) परीक्षा का अंतिम चरण साक्षात्कार होता है, जिसमे मुख्य परीक्षा को उत्तीर्ण करने वाले छात्र भाग लेते है। साक्षात्कार का यह चरण 275 अंको का होता है। इस चरण में छात्र की प्रतिभा, उसके आत्म-विश्वास तथा उसके ज्ञान का परिक्षण किया जाता है। इन सभी परीक्षाओं अर्थात मुख्य परीक्षा और साक्षात्कार का कूल योग 2025 होता हैं इनमे से प्राप्त अंको के आधार पर आयोग उम्मीदवारों का चयन किया जाता है।

12वीं के बाद यूपीएससी की तैयारी कैसे करें (How to Prepare for UPSC after 12th in Hindi) – यूपीएससी (UPSC) की मुख्य परीक्षा हेतु महत्वपूर्ण पुस्तकें और परामर्श

सबसे पहले आपको यूपीएससी (UPSC) की परीक्षा के लिए तत्पर होने के लिए दैनिक रूप से समाचार पत्र पढ़ने की आदत डालनी चाहिए । इसके लिए आप ‘द हिन्दू’ या ‘इंडियन एक्सप्रेस’ पढ़ सकते हैं। यह इस परीक्षा की तैयारी करने का सबसे महत्वपूर्ण भाग है। यह आपको न केवल मानसिक परिपक्वता प्रदान करेगा बल्कि आपको महत्वपूर्ण करंट अफेयर्स से भी अवगत करवायेगा और साथ ही आपके लेखन कौशल को भी विकसित करने में सहायता प्रदान करेगा।

इसके साथ आपको ‘योजना’ और’ कुरुक्षेत्र’ जैसी मैगज़ीन को मासिक रूप से पढना चाहिए इससे आपके ज्ञान में वृद्धि होगी और आप बेहतर उत्तर लिख पायेंगे।

आपको यूपीएससी (UPSC) परीक्षा के लिए राज्य सभा टीवी चैनल, आल इंडिया रेडियो, पीआईबी का भी अनुसरण करना चाहिए।

साथ ही आप यूट्यूब पर यूपीएससी (UPSC) परीक्षा और करंट अफेयर्स से संबंधित स्टडी चैनल को फॉलो कर सकते हैं।

यूपीएससी की तैयारी के लिए बुक – मेंस परीक्षा के लिए

  • कला एवं संस्कृति – नितिन सिंघानिया
  • विश्व का इतिहास – नार्मन लोवे
  • इंडिया आफ्टर गाँधी- विपिन चंद्रा
  • इंडिया सिंस इंडिपेंडेंस- आर. सी गुहा
  • राज्यव्यवस्था – लक्ष्मीकांत
  • इंटरनल सिक्यूरिटी- अशोक कुमार
  • लेक्सिकन बाय क्रोनिकल – जी. सुबराव

यह कुछ महत्वपूर्ण पुस्तकें है जो आपको यूपीएससी (UPSC) की परीक्षा के लिए पढनी चाहिए, आपको प्राथमिक परीक्षा के लिए बताई गई पुस्तकों को भी इनके साथ पढना है, और साथ ही आपको छट्ठी कक्षा से लेकर 12 वीं कक्षा तक की एनसीआरटी की पुस्तकें पढनी चाहिए। इसके अलावा आपको आर्थिक सर्वेक्षण, साइंस रिपोर्टर, एआरसी रिपोर्ट आदि भी पढना चाहिए।

यूपीएससी (UPSC) का सिलेबस बहुत विशाल है इसे अच्छी तरह से अध्ययन करने के लिए आपको अधिक समय चाहिए, यदि आप 12वीं के बाद आईएएस (IAS), आईपीएस (IPS) की परीक्षा की तैयारी करना शुरु कर देंगे तो आप आसानी से इसके सिलेबस को समाप्त कर सकते हैं। आईएएस (IAS) या आईपीएस (IPS) या यूपीएससी (UPSC) की परीक्षा में आप अपनी ग्रेजुएशन के अंतिम वर्ष में भी बैठ सकते है। यदि आपकी आयु 21 वर्ष है और आपने अपनी 12वीं समाप्त करने के बाद इस परीक्षा के लिए अच्छे से तैयारी की है तो आप आईएएस (IAS) या आईपीएस (IPS) या यूपीएससी (UPSC) की परीक्षा में भाग ले सकते हैं।

12वीं के बाद यूपीएससी की तैयारी कैसे करें (How to Prepare for UPSC after 12th in Hindi) – आईएएस की तैयारी कैसे करें? – बिना कोचिंग के आईएएस की तैयारी कैसे करें

यह प्रश्न हर छात्र के मन में रहता है कि वह बिना कोचिंग के आईएएस की तैयारी कैसे करें, किसी भी परीक्षा में सफल होने का सबसे बेहतर तरीका सेल्फ-स्टडी होता हैं। इससे छात्र को किसी भी सब्जेक्ट को बेहतर तरीके से समझने में सहायता मिलती है। साथ ही छात्र को कठिन परिश्रम के साथ स्मार्ट वर्क भी करना होगा। कुछ महत्वपूर्ण टिप्स है जो आपको यूपीएससी की तैयारी करने में सहायता कर सकते है:

  • यूट्यूब पर ऐसे चैनलों को फॉलो करें जो यूपीएससी की मुफ्त में कोचिंग देते हैं। यूट्यूब पर ऐसे बहुत से चैनल विद्यमान है जो यूट्यूब पर नि:शुल्क कोचिंग प्रदान करते है। आपको उन चैनलों को फॉलो करना चाहिए।
  • आपको फेसबुक, इन्स्टाग्राम और ट्विटर पर भारतीय मंत्रालयों के पेज को फॉलो करना चाहिए इससे आपको नवीनतम अपडेट प्राप्त करने में सरलता होगी।
  • राज्य सभा टीवी, दूरदर्शन, आल इंडिया रेडियो पर आने पर सभी महत्वपूर्ण कार्यक्रमों को आपको फॉलो करना चाहिए। इससे आपको बेहतर तरीके से ज्ञान होगा कि सरकार सरकार कौन सी नीति बना रही है तथा उसके प्रभाव एवं दुष्प्रभाव क्या होंगे ।
  • करंट अफेयर्स के लिए आपको निरंतर अख़बारों से जुड़े रहना चाहिए। यह आपको लंबे समय तक किसी भी न्यूज़ के बारे में सूक्ष्म जानकारी याद रखने में सहायता करेंगे साथ ही ऐसी बहुत सी मैगज़ीन उपलब्ध है जिन्हें पढ़ कर आप अपने आप को अपडेट रख सकते हैं।
  • मूल रूप से समाचार पत्र पढने का कारण यह भी है कि आपका विज़न स्पष्ट हो सके। आप किसी भी घटना को किस प्रकार देखते हैं, यह सकारात्मक है या नकारात्मक, यह दृष्टिकोण विकसित करना भी बेहद महत्वपूर्ण है।

12वीं के बाद यूपीएससी की तैयारी कैसे करें? – यूपीएससी का कोर्स कितने साल का होता है?

छात्र तथा उनके अभिभावकों के मन में हमेशा ही यह प्रश्न उठता है कि ‘यूपीएससी का कोर्स कितने साल का होता है’, यहाँ हम आप सभी को यह स्पष्ट करना चाहते हैं कि यूपीएससी का कोई भी कोर्स निर्धारित नहीं है। यह परीक्षा आपकी मानसिक योग्यता तथा परिपक्वता का परिक्षण करती है। इसके अलावा आप अपने आस-पास और देश दुनिया के बारे में कितने अपडेट रखते है इसका परिक्षण करती है।

आईएएस की तैयारी कैसे करें? – आईएएस की फीस

छात्र तथा उनके अभिभावक हमेशा से यह जानना चाहते है कि आईएएस की फीस कितनी होती है यानी आईएएस की कोचिंग करने में कितनी फीस लगती है, हम आपको यह स्पष्ट करना चाहते हैं कि आईएएस के लिए विभिन्न संस्थानों ने अलग-अलग फीस निर्धारित की है। अनुमानित तौर पर देखा जाए तो यूपीएससी के लिए किसी भी कोचिंग संस्थान का शुल्क 50000 से 250000 रुपये तक हो सकता है। इसके अलावा आज-कल ऑनलाइन कोर्स भी एक विकल्प है। इनकी फीस किसी भी संस्थान की कोचिंग से कम होती है और आप घर बैठे ही अपनी परीक्षा की तैयारी कर सकते हैं।

12वीं के बाद यूपीएससी की तैयारी कैसे करें (How to Prepare for UPSC after 12th in Hindi) – यूपीएससी आईएएस प्रश्न पत्र 2023

यूपीएससी आईएएस के आधिकारिक प्रश्न पत्र परीक्षा के कुछ दिनों बाद अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर जारी कर दिए जाते हैं। यूपीएससी प्रीलिम्स और मेन्स, दोनों प्रश्न पत्र पीडीएफ प्रारूप में जारी करता है। यूपीएससी आईएएस परीक्षा 2023 की तैयारी करने वाले उम्मीदवारों को अपनी तैयारी शुरू करने के लिए पिछले वर्ष के प्रश्न पत्रों को पढ़ना चाहिए, जिससे वो परीक्षा में पूछे जाने वाले प्रश्नों के प्रकार को आसानी से समझ पाएं। आईएएस के पिछले वर्ष के प्रश्न पत्रों की मदद से, उम्मीदवार परीक्षा के कठिनाई स्तर, परीक्षा में पूछे जाने वाले प्रश्नों के प्रकार और आईएएस परीक्षा के प्रश्नों की विवधता के बारे में जान सकेंगे।

Frequently Asked Question (FAQs)

1. आईएएस (IAS) या आईपीएस (IPS) की परीक्षा का आयोजन कौन सी संस्था करती है?

आईएएस (IAS) या आईपीएस (IPS) परीक्षा का आयोजन संघ लोक सेवा आयोग (Union Public Service Commission) (युपीएससी) द्वारा किया जाता है।

2. युपीएससी का पूर्ण नाम क्या है?

युपीएससी का पूर्ण नाम यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन या संघ लोक सेवा आयोग है।

3. आईएएस (IAS) या आईपीएस (IPS) या यूपीएससी (UPSC) की परीक्षा में भाग लेने की आयु सीमा क्या है?

आईएएस (IAS) या आईपीएस (IPS) या यूपीएससी (UPSC) की परीक्षा में भाग लेने के लिए सामान्य वर्ग की आयु सीमा 21 से 32 वर्ष है तथा एससी/ एसटी तथा महिलाओं के लिए यह सीमा 21 से 35 वर्ष है।

4. यूपीएससी (UPSC) की परीक्षा में सामान्य वर्ग के छात्र कितनी बार उपस्थित हो सकते हैं?

आईएएस (IAS) या आईपीएस (IPS) या यूपीएससी (UPSC) की परीक्षा में सामान्य वर्ग के छात्र छ: बार उपस्थित हो  सकते हैं।

5. आईएएस की परीक्षा में कितने चरण होते है?

यूपीएससी (UPSC) आईएएस  की परीक्षा में तीन चरण होते है :

  • प्रारंभिक परीक्षा 
  • मुख्य परीक्षा 
  • साक्षात्कार

6. यूपीएससी (UPSC) की प्रारंभिक चरण में कितने पेपर होते है?

प्रारंभिक परीक्षा दो पेपर के लिए आयोजित की जाती है: 

  • पेपर 1 – सामान्य अध्ययन (General Studies)
  • पेपर 2 – प्रशासनिक सेवा एप्टीट्यूड टेस्ट (CSAT)

7. यूपीएससी (UPSC) आईएएस (IAS) की मुख्य परीक्षा कितने पेपर के लिए आयोजित की जाती है?

मुख्य परीक्षा नौ पेपर के लिए आयोजित की जाती है जिसमे से 2 वैकल्पिक और 2 क्वालीफाइंग पेपर होते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *