हरियाणा की राजधानी कहां है

हरियाणा प्रदेश की राजधानी कहां है (Hariyana Ki Rajdhani)

हरियाणा राज्य की राजधानी चंडीगढ़ है। इसके अलावा चंडीगढ़ पंजाब की राजधानी भी है। यह राजधानी होने के साथ साथ एक केंद्रशासित प्रदेश भी है। चंडीगढ़ नाम हिन्दू देवी चण्डिका या चण्डी मंदिर के नाम पर पड़ा है। यह मंदिर आज भी चंडीगढ़ से कुछ दुरी पर हरियाणा के पंचकूला जिले में स्तिथ है। चंडीगढ़ के राजधान क्षेत्र के अंतर्गत पंचकूला, मोहाली, और जीरकपुर आते है। चंडीगढ़ को ब्यूटीफुल सिटी के नाम से भी जाना जाता है। यह भारत का एक ऐसा शहर है, जिसे पुराने समय में व्यवस्थित तरीके से बसाया गया था।

हरियाणा के बारे में जानकारी

हरियाणा राज्य का गठन

1 नवंबर 1966

हरियाणा की राजधानी

चण्डीगढ़

सबसे बड़ा शहर

फरीदाबाद

हरियाणा की स्मार्ट सिटी

करनाल और फरीदाबाद

हरियाणा में जिले

22

कुल क्षेत्रफल

44212 किमी2 (17,070 वर्गमील)

जनसंख्या (2011)

2,53,51,462

हरियाणा की राजभाषा

हिन्दी, अंग्रेज़ी, पंजाबी

हरियाणा की क्षेत्रीय भाषा

हरियाणवी, अहीरवाटी, मेवाती, बागड़ी

हरियाणा का राजकीय पक्षी

Black Francolin (काला तीतर)

आधिकारिक वेबसाइट

हरियाणा का इतिहास

हरियाणा का इतिहास बहुत पुराना है, हालाकिं आज के समय में हरियाणा एक अलग राज्य है। लेकिन ब्रिटिश भारत के समय हरियाणा पंजाब का ही के हिस्सा था। हरियाणा के बानावाली और राखीगढ़ी सिंधु घाटी सभयता का हिस्सा रहे है, यह लगभग 5000 हजार साल से भी पुराने है। सिंधु घाटी सभ्यता के अलावा और भी कई सभ्यताओं के अवशेष सरस्वती नदी के किनारे पर पाए गए है। जिनमे अग्रोहा और राखीगढी़ हिसार, नौरंगाबाद और मिट्टाथल भिवानी, रूखी रोहतक, कुणाल फतेहाबाद, और बनवाली सिरसा प्रमुख जिले है।

अगर हम प्राचीन वैदिक सभ्यता की बात करें, तो वह भी सरस्वती नदी के किनारे पर ही फली फूली है। इसके अलावा ऋग्वेद के मंत्रों इसी जगह पर हुई थी। भारत के महाकाव्य महाभारत में राज्य का उल्लेख मिलता है। महाभारत काल के कुछ क्षेत्र आज भी है, जिन्हे तिलप्रस्थ (तिल्पुट), सोनप्रस्थ (सोनीपत), प्रिथुदक (पेहोवा), में बदल गए है। हरियाणा का मुख्य शहर गुडगाँव का अर्थ गुरु ग्राम से है, जिसका अर्थ है, गुरु द्रोणाचार्य का गांव।

हरियाणा के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल

हमें Hariyana Ki Rajdhani के बारे में तो पता चल गया है, और हमें हरियाणा के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारियों के बारे में भी जाना है। अब अगर हम हरियाणा में कभी आते है, तो यहाँ पर थोड़ा घूमना भी जरुरी है। यहाँ पर हम हरियाणा में घूमने की जगह के बारे में जानेगे। हरियाणा में घूमने के लिए बहुत कुछ है। ज्यादातर हरियाणा के गुडगाँव में हमें बहुत सी घूमने की जगह मिलती है। गुडगाँव में कई एडवेंचर गतविधियां कराने वाले पार्क भी है। जहाँ पर आप एडवेंचर गतिविधियों का आनंद ले सकते है। आइये जानते है, हरियाणा के प्रमुख पर्यटन स्थल –

1. पंजोखरा साहिब गुरुद्वारा

पंजोखरा साहिब गुरुद्वारा का निर्माण हरकृष्ण साहिब जी की याद में बनवाया गया है। जो की सिक्खों के आठवें गुरु थे। यह गुरुद्वारा अंबाला-नारायणगढ़ रोड पर स्थित है।

2. किंगडम ऑफ ड्रीम्स

किंगडम ऑफ ड्रीम्स गुडगाँव के सेक्टर 29 में स्तिथ है, जो की देश का पहला लाइव मनोरंजन स्थल है। किंगडम ऑफ ड्रीम्स का उद्घाटन 29 जनवरी, 2010 को किया गया था। यह बहुत ही अध्भुत है, यहाँ पर आपको इंग्लैंड, पेरिस, अमेरिका, सही कई यूरोपीय देशो का अनुभव हो सकता है। यह हरियाणा आने वाले पर्यटकों के लिए के शानदार जगह है।

3. ब्रह्म सरोवर कुरुक्षेत्र

ब्रह्म सरोवर भगवान् ब्रह्मा से जुड़ा हुआ है। यह सरोवर हरियाणा के कुरुक्षेत्र में स्तिथ है। सूर्य ग्रहण के समय सरोवर के पवित्र पानी में अगर श्रद्धालु डुबकी लगाते है, तो श्रद्धालुओं को हजारों अश्वमेधा यज्ञों के प्रदर्शन की योग्यता के बराबर माना जाता है। कुछ स्थानीय किवदंतियों के अनुसार ऐसा माना जाता है, की इस सरोवर की खुदाई कौरवों और पांडवों के राजा कुरु ने कराई थी। सरोवर के बिच में एक द्वीप स्तिथ है, जिसे परम्पराओं के अनुसार ऐसा माना जाता है, महाभारत की जित के बाद इस सरोवर में स्तिथ द्वीप को युधिष्ठार द्वारा बनवाया गया था।

4. मोरनी हिल्स (पंचकुला)

मोरनी हिल्स हरियाणा राज्य के पंचकूला जिले एक एक गांव में स्तिथ एक पर्यटक स्थल है। जो की चंडीगढ़ से लगभग 45 किलोमीटर की दुरी पर स्तिथ है। मोरनी हिल्स वनस्पतियों और झीलों के लिए जाना जाता है। मोरनी हिल्स का नाम एक रानी से के नाम से निकला था। जिसने एक समय पर इस क्षेत्र में शासन किया था। मोरनी हिल्स में दो झीले भी मौजूद है। यह एक देखने लायक पर्यटक स्थल है।

5. दमदमा लेक

दमदमा झील हरियाणा की सबसे बड़ी प्राकृतिक झीलों में से एक है। जो की लगभग 3000 हजार एकड़ के क्षेत्र में फैली हुई है। यह झील सोहना जिले के अंतर्गत आती है, जो की दिल्ली से लगभग 40 किलोमीटर की दुरी पर स्तिथ है। झील में पर्यटकों के लिए कई गतिविधियां भी करने के लिए है। यहाँ की मुख्य गतविधियों में से नौका विहार एक है। इसके अलावा आप यहाँ पर रॉक क्लाइम्बिंग भी कर सकते है। यह दिल्ली के पास और गुडगाँव के पास का एक वीकेंड गेटअवे भी है, जहाँ पर ज्यादातर लोग छुट्टियां बिताने के लिए आते है।

6. सुल्तानपुर पक्षी अभ्यारण्य

सुल्तानपुर पक्षी अभ्यारण्य दिल्ली के पास स्तिथ सबसे लोकप्रिय सप्ताहांत गेटवे में से एक है। अगर आपको पक्षियों को देखना, फोटोग्राफी करना और प्राकृतिक के बिच रहना पसंद है, तो आपके लिए यह एक आदर्श विकल्प है। पार्क की प्राकृतिक सुंदरता अविश्वसनीय है। पार्क में कई तरह के अलग अलग किस्मो के पेड़ है, जिसमे बेरिस, बबूल नीलोटिका, पार्क बबूल टोर्टिलिस, और नीम आदि शामिल है। पार्क देखने के लिए इसमें चार टावर भी मौजूद है। जिनमे से आप किसी को भी चुन सकते है।

7. मुरथल

मुरथल हरियाणा राज्य के अंतर्गत आता है, जो की अपने स्वादिष्ट पराठों के लिए जाना जाता है। मुरथल अमृतसर और दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्तिथ है। मुरथल हरियाणा के सोनपत जिले में जो की भारत का पराठा हब बनने वाला है। सभी ट्रक ड्राइवर और राह जाने वाले पर्यटकों के लिए ढाबा जंक्शन के रूप में है। मुरथल में 50 से अधिक ढाबे है, सभी अपने स्वादिष्ट पराठों के लिए जाने जाते है। पराठों पर घर में बने सफ़ेद मक्खन का उपयोग किया जाता है। अगर आपको पराठे पसंद है, तो आपके लिए मुरथल एक शानदार जगह है।

8. पानीपत

पानीपत अपने ऐतिहासिक युद्ध के लिए जाना जाता है। पानीपत में घूमने के लिए बहुत कुछ है, यह दिल्ली से लगभग 90 किलोमीटर की दुरी पर स्तिथ है। यहाँ पर किले, मंदिर, असंख्य स्मारक, और कई ऐतिहासिक सम्बंधित वस्तुएं भी है। जो की पानीपत को हरियाणा राज्य का एक शानदार पर्यटन स्थल बनाते है। इसे ‘बुनकरों का शहर’ और ‘टेक्सटाइल सिटी’ के नाम से भी जाना जाता है, क्योकिं यहां पर कपड़े का अधिक उत्पादन किया जाता है। पानीपत का इतिहास महाभारत के समय का है, यह पांडवो द्वारा बसाये गए पांच शहरों में से एक था। यहाँ पर आप काबुली शाह मस्जिद, इब्राहिम लोधी की कब्र, पुराने किले, और खंडर आदि घूमने के लिए जा सकते है।

9. मानेसर

मानेसर दिल्ली के पास स्तिथ एक वीकेंड गेटवे के रूप में देखा जाता है। अगर आप शहर की भीड़भाड़ से दूर एक शांत जगह पर आना चाहते है, तो मानेसर एक अच्छा विकल्प है। यहाँ पर आप कृषि पर्यटन का आनंद उठा सकते है। मानेसर अपने देहाती जीवन और अरावली पहाड़ियों के लिए जाना जात्ता है। यहाँ पर ठहरने के लिए कुछ रिसोर्ट भी उपलब्ध है। आप यहाँ के रिसोर्ट में ठहरकर कुछ गतिविधियों का आनंद भी ले सकते है।

10. सूरज कुंड मेला

सूरजकुंड मेला यहाँ के सबसे लोकप्रिय मेले में से एक है। यहाँ पर दूर दूर से पर्यटक घूमने के लिए आते है। यह हर साल हरियाणा पर्यटन विभाग द्वारा आयोजित किया जाता है। सूरजकुंड का अर्थ है, ‘सूर्य की झील’ जो की एक प्राचीन जलाशय है। इस जलाशय को तोमर वंश के राजा सूरज पाल द्वारा 10वीं शताब्दी में बनवाया था। सृजकुण्ड हरियाणा के फैदाबाद में स्तिथ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *