आर्मी में अब 50% अग्निवीर होंगे परमानेंट? सेना की मांग के पीछे क्या है वजह

भारतीय सेना में अग्निवीरों की भर्ती के बाद उनके पद निर्धारण में बदलाव हो सकते हैं। सेना चाहती है कि ट्रेनिंग के बाद हर बैच से करीब 50 प्रतिशत अग्निवीरों को सेना में स्थायी रूप से भर्ती किया जाए। इसके साथ ही तकनीकी भर्ती की आयु वृद्धि पर भी विचार हो रहा है।

सेना में अधिक से अधिक अग्निवीरों को भर्ती करने का प्रयास

भारतीय सेना में इस वक्त क्लोज लाइन लाख सैनिकों की है कमी

अग्निवीर टेक्निकल भर्ती में उम्र 21 से 23 साल पर भी विचार

भारतीय सेना चाहती है कि चार साल बाद करीब 50 अग्निवीरों को स्थायी किया जाए। हालाँकि अभी भी अग्निपथ स्क्लैज़ के अंतर्गत नियम हैं कि चार साल बाद अधिकतर 25 अग्निवीरों को ही स्थायी सैनिक बनने का विकल्प दिया जाएगा। सेना ने इस रिश्ते में सरकार के सामने अपनी मांग रखी है। दस्तावेज़ के अनुसार पहले भी इस संबंध में फ़ाइल जारी की गई थी लेकिन सेना की यह मांग अस्वीकार कर दी गई थी। अब फिर सेना यह मामला आगे बढ़ रही है।

हर बच्चे से 50% अग्निवीर हो परमानेंट

सूत्रों के मुताबिक सेना चाहती है कि अग्निवीरों के हर बैच में से करीब 50 पर्सेंट अग्निवीरों को परमानेंट किया जाए। एक अधिकारी के मुताबिक पहले जब सैनिकों की भर्ती होती थी उसमें जो स्टैंडर्ड रखे गए थे वहीं स्टैंडर्ड अग्निवीरी के लिए भी हैं। हम क्वॉलिटी से कोई समझौता नहीं कर रहे हैं। 50 पर्सेंट अग्निवीरों को परमानेंट करने के अलावा सेना ने सरकार के सामने यह प्रस्ताव भी रखा है कि अग्निवीरों की भर्ती तेजी से की जाए। यानी एक साल में भर्ती के लिए जो नंबर तय किया गया है उसे बढ़ाया जाए ताकि सेना में सैनिको की कमी जल्दी पूरी हो सके।

कोविड में सेना में भर्ती नहीं हुई

कोविड की वजह से दो साल सेना की भर्ती नहीं हो पाई थी। जबकि उससे पहले हर साल करीब 80 हजार सैनिकों की भर्ती होती थी। इससे सेना से रिटायर होने वाले और सेना में भर्ती होने वाले सैनिकों की संख्या में बैलेंस बना रहता था। पिछले साल जब अग्निपथ स्कीम के तहत अग्निवीरों की भर्ती की गई तो पहले साल 40 हजार अग्निवीरों की भर्ती की जा रही है। इसके बाद धीरे धीरे यह नंबर बढ़ाया जाना है और साल 2026 तक कुल 1 लाख 75 हजार अग्निवीरों की भर्ती सेना में होनी है। जबकि अभी ही सेना में करीब डेढ़ लाख सैनिकों की कमी है और हर साल सैनिक रिटायर भी हो रहे हैं।

टेक्निकल भर्ती में अधिकतम उम्र 23 साल

सेना अग्निवीरों की भर्ती में टेक्निकल भर्ती में अधिकतम उम्र 21 साल से लेकर 23 साल तक करने पर भी विचार कर रही है। ऑफिशियल के मुताबिक सेना में आईटीआई और टेक्निकल कोर्स किए गए युवाओं को भर्ती कर रही है और सीमा उम्र 21 साल होने से ज्यादातर विकल्प नहीं मिल पा रहे हैं। इसलिए इसे स्केल किया जा सकता है। अग्निपथ स्कीम से पहले भी जब सैनिक तकनीकी में भर्ती हुई थी तब अधिकतम आयु सीमा 23 वर्ष थी। अग्निपथ स्काइब में इसे काट दिया गया।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *