क्रिकेटर कैसे बनें?

भारत को क्रिकेट में धर्म का दर्जा प्राप्त है। यहां क्रिकेट मैच के बाद भीड़भाड़ वाली गलियां सुनसान हो जाती हैं। कई खिलाड़ियों को भारत के लिए खेलने का सम्मान मिला है। दूसरी तरफ जब हिंदी में क्रिकेटर बनने की बात आती है तो पता नहीं देश के कितने नौजवान इसके लिए अपनी जान कुर्बान कर देंगे। इस ब्लॉग में आप विस्तार से जानेंगे कि क्रिकेटर कैसे बनते हैं।

आप भीड़ के लिए नहीं बल्कि अपने देश के लिए खेलते हैं – महेंद्र सिंह धोनी

कौन होता है क्रिकेटर

क्रिकेट खेलने वाले खिलाड़ी को क्रिकेटर कहा जाता है। क्रिकेटर कोई एक ही काम नहीं करता है बल्कि वो बैटिंग, बोलिंग, फील्डिंग, विकेट कीपिंग भी करता है।

क्रिकेटर बनने के लिए स्किल्स

क्रिकेट में करियर बनाने के लिए आपके अंदर कुछ जरूरी ख़ूबियाँ होनी चाहिए।

नीचे कुछ स्किल्स की जानकारी दी गई हैं कि क्रिकेटर कैसे बने?

  • अभ्यास : आपको खेल में महारत हासिल करने के लिए खूब अभ्यास करने की जरूरत है। अभ्यास से आप खेल में अपनी क्षमताओं को निखार सकते हैं और अपने खेल को प्रोफेशनल लेवल पर ले जा सकते हैं।

  • खेल की बुनियादी जानकारी : सिर्फ बल्ले या गेंद के इस्तेमाल को समझना ही काफी नहीं है। खेल को समझने के लिए आपको खेल में इस्तेमाल होने वाली वोकैबुलरी, किट, रूल्स & रेगुलेशंस की जानकारी होनी चाहिए।

    • अपने मजबूत हिस्से को पहचानें : इस खेल में आप को यह समझना होगा कि खेल के किस हिस्से में आपकी पकड़ मजबूत है। आपको निरंतर अभ्यास करके यह जानना होगा कि आप एक अच्छे गेंदबाज़ हैं या बल्लेबाज़। साथ ही आपको यह भी सीखना होगा कि अपने कमजोर भाग पर कैसे काम करें और अपनी ताकत को कैसे बढ़ाएं।

क्रिकेटर बनने के लिए स्टेप बाय स्टेप गाइड

एक प्रोफेशनल Cricketer in Hindi बनने के क्रम में कुछ ऐसी चीजें है, जो आपको हमेशा अपने दिमाग में रखनी होंगी और अपना एक लक्ष्य निश्चित करके उसकी ओर काम करना होगा। नीचे Cricketer in Hindi बनने के हर कदम की कुंजी साझा की गई है।

क्रिकेट अकादमी से जुड़ें

अगर आप खुद को उस नीली जर्सी में देश के लिए खेलते हुए देखने का सपना देखते हैं तो उस सपने को हकीकत में बदलने के लिए पहला कदम एक क्रिकेट अकादमी में शामिल होना है। पेशेवर कोच से खेल की बारीकियां सीखने से खेल पर आपकी पकड़ मजबूत होगी। इसके अलावा, आपके दैनिक अभ्यास में प्रभावी टिप्स और ट्रिक्स सीखना शामिल होगा, जिसके लिए आपको अलग से समय नहीं देना होगा। एक अच्छी क्रिकेट अकादमी में शामिल होने से आपको अपनी ताकत और कमजोरियों और सुधार के तरीकों का पता चल जाएगा। एक क्रिकेट अकादमी में शामिल होने से आप प्रतिस्पर्धी खिलाड़ियों के संपर्क में आएंगे जो आपको अपने खेल में सुधार करने के लिए प्रोत्साहित करेंगे।

अच्छा कोच खोजें

क्रिकेटर्स का अपने कोच के साथ सबसे मजबूत रिश्ता होता है, क्या आपने कभी सोचा है कि ऐसा क्यों? बल्कि, कोच के साथ खिलाड़ियों का बंधन यह है कि कोच न केवल आपको खेल के बारे में सूचित करता है, बल्कि आपको अपनी सीमाओं से परे धकेल कर दुनिया को आपका कौशल भी दिखाता है जो कि शुरुआत में केवल कोच की अनुभवी आंखों को दिखाई देता है। खेल। चरण .. इससे पहले कि आप अपना कोच चुनें, एक अच्छा शोध और पृष्ठभूमि की जाँच करने के लिए संतुष्ट रहें और फिर कोच का चयन करें। कई सेवानिवृत्त खिलाड़ी कोच बन जाते हैं और विभिन्न अकादमियों में शामिल हो जाते हैं या अपनी खुद की अकादमियां शुरू कर देते हैं।

प्रोफेशनल टीम से जुड़ें

अपने खेल को पेशेवर स्तर पर ले जाने की कुंजी में से एक है पेशेवर स्तर पर खेलना शुरू करना। इसके लिए आपको एक पेशेवर टीम में शामिल होने की जरूरत है। आप अपने करियर की शुरुआत अपने स्कूल या कॉलेज की क्रिकेट टीम से कर सकते हैं जहाँ खेलने से आपका आत्मविश्वास बढ़ेगा। उसके बाद आप एक टीम में शामिल हो सकते हैं और उसके लिए खेलना शुरू कर सकते हैं जो विभिन्न निजी क्रिकेट टूर्नामेंट खेल रही है। आप एक ऐसे क्लब में भी शामिल हो सकते हैं जहाँ खेलने से आपके किसी ज्ञात क्लब द्वारा चुने जाने की संभावना बढ़ जाएगी। क्लब में शामिल होने के लिए आपको केवल सभी शर्तों को पूरा करना होगा।

टूर्नामेंट्स खेलना शुरू करें

शुरुआत आपको छोटी करनी है लेकिन लक्ष्य बड़ा रखना है। एक बार जब आप किसी टीम या क्लब के लिए खेलना शुरू करते हैं, तो आपको यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता होती है कि आप देश के विभिन्न हिस्सों में आयोजित होने वाले टूर्नामेंटों में जाते हैं। वहां से, एक पेशेवर खिलाड़ी बनने की आपकी यात्रा एक प्रतिस्पर्धी टीम में शामिल होने और फिर राज्य की टीम में जगह बनाने की है। अगर आप रणजी ट्रॉफी जैसे बड़े टूर्नामेंट खेलते हैं और अच्छा प्रदर्शन करते हैं तो इस क्षेत्र में आपके अच्छे करियर की संभावना बढ़ जाती है।

क्रिकेटर बनने के लिए फिटनेस पर दें ध्यान

Cricketer in Hindi की फिटनेस ही उसका सबसे बड़ा हथियार है, इसलिए अधिकतर क्रिकेटर रोज़ वर्क आउट करते हैं और एक बैलेंस्ड डाइट का सेवन करते हैं। एक अच्छी फिटनेस पाने के लिए रोज़ जिम जाना जरूरी है और बेसिक कार्डियो से लेकर हाई इंटेंसिटी वर्क आउट को अपने जिम रूटीन में शामिल करना जरूरी है।

आपको अपनी डाइट से गैर-जरूरी कार्बोहायड्रेट व शुगर वाले पदार्थों को हटाने और प्रोटीन के सेवन पर ध्यान देने की जरूरत है। यह क्रिकेटर कैसे बने? इस सफर का सबसे जरूरी मोड़ है और इसका पालन आपको अपने पूरे कैरियर में करना है। खेल में एंट्री लेने का प्रयास करने वाले खिलाड़ी से लेकर प्रोफेशनल खिलाड़ी तक सभी को शारीरिक चुस्ती को बरकरार रखने की जरूरत होती है।

नेशनल टीम के लिए सिलेक्शन प्रोसेस

क्रिकेट में भाग लेने वाले सभी देशों की नेशनल टीम के अलावा A-टीम भी होती है। नेशनल टीम में अपनी जगह बनाने के लिए पहले A-टीम में जगह बनानी पड़ेगी। हालांकि, यह कोई जरूरी नहीं है कि सिर्फ A-टीम में खेलने वाले खिलाड़ियों को ही नेशनल टीम में खेलने का मौका मिले। नेशनल टीम पर अच्छा प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों को A-टीम का हिस्सा बनने का मौका दिया जाता है। सभी देशों की A-टीम एक दूसरे के साथ मुकाबला करती हैं, ताकि A-टीम के खिलाड़ियों को विदेशी पिच में खेलने का अनुभव मिल सके। नेशनल टीम में खुद की जगह बनाने के लिए किसी भी शख्स को बहुत मेहनत करनी पड़ती है।

नेशनल टीम का हिस्सा बनने के अलावा आप विभिन्न देशों में आयोजित होने वाली लीग या फ्रैंचाइज़ी का भी हिस्सा बन सकते हैं। IPL (भारत), काउंटी क्रिकेट (इंग्लैंड), BBL (ऑस्ट्रेलिया) आदि कुछ प्रसिद्ध लीग्स के उदाहरण हैं। लेकिन इन लीग का हिस्सा बनने से पहले BCCI द्वारा जारी गाइडलाइन्स को ज़रुर देख लें, अगर आप एक भारतीय हैं तो।

यह भी पढ़ें क्रिकेट के महाराजा – सौरव गांगुली

खुद पर विश्वास रखें

Cricketer in Hindi बनने की आखिरी व सबसे अहम कड़ी खुद के सपने और खुद पर भरोसा रखना है। भरोसे के साथ संयम रखकर निरंतर प्रयास करने से परिणाम ज़रुर मिलते हैं। भारतीय क्रिकेट के इतिहास में कई खिलाड़ियों ने विपरीत परिस्थितियों में अपने खेल पर भरोसा रखा और खेल के सितारे बनकर उभरे। नीचे ऐसे ही कुछ खिलाड़ियों के उदाहरण का जिक्र है-

  • उमेश यादव : कोयले की खदान में काम करने वाले शख्स का बेटा

  • रवींद्र जडेजा : चौकीदार का बेटा

  • मोहम्मद शमी : किसान का बेटा

  • मुनाफ पटेल : एक भूमिहीन व फैट्री मज़दूर का बेटा जिसके पिता रोज़ाना के 35 रुपए कमाते थे

  • महेंद्र सिंह धोनी: टिकट कलेक्टर के रूप में काम किया

  • वसीम जाफ़र : बस ड्राइवर का बेटा

  • वीरेंद्र सहवाग : आटा चक्की चलाने वाले का बेटा

क्रिकेटर बनने के लिए कितना पैसा लगता है?

अगर सही मायनों में देखा जाए तो Cricketer in Hindi बनने के लिए कोई भी पैसे नहीं लगते हैं लेकिन हां क्रिकेट को सीखने के लिए जरूर पैसे लगते हैं जो कि आपको क्रिकेट अकादमी में ज्वाइन करने के लिए और वहां सीखने के लिए देने पड़ते हैं अगर आप अच्छे से क्रिकेट सीख जाते हैं। इसके साथ ही आप बिना पैसों के एक सफल क्रिकेटर बन सकते हैं।

क्रिकेट अकादमी में एडमिशन कैसे लें?

आज के समय में आपको क्रिकेट अकादमी खोजने के लिए इंटरनेट पर सर्च करना होगा आप अपने शहर की बेस्ट क्रिकेट अकादमी में वहाँ जाकर एडमिशन ले सकते हैं और इसके अलावा अकादमी में एडमिशन लेने से पहले आप वहां के कोच की पूरी जानकारी जरूर लें। पता करें कि जहाँ आप प्रवेश ले रहें हैं वहां कौन मुख्य कोच हैं एवं उन्होंने किन किन खिलाडियों को ट्रेनिंग दी हैं और वे खिलाड़ी कहाँ तक पहुँच पाए हैं। साथ ही यह भी ध्यान रखें जहाँ आप प्रवेश ले रहें हैं उस अकादमी का क्रिकेट क्लब जो कि DDCA (Delhi & District Cricket Association) से जुड़ा है या नहीं।

क्रिकेट भर्ती फॉर्म

नेशनल क्रिकेट अकादमी समय-समय पर सेमिनार के जरिए सीनियर खिलाड़ियों के साथ मिलकर युवा खिलाड़ियों के सामने अपने टैलेंट देखते हैं और उनको मौका देते हैं। नेशनल क्रिकेट अकादमी के फॉर्म और उनके एडमिशन के लिए ट्रायल भी चलते रहते हैं जिनके अंदर खिलाड़ी ट्रायल दे सकते हैं। नेशनल क्रिकेट अकादमी में जगह बनाने के लिए नेशनल क्रिकेट अकादमी के अंदर जो भी सेमिनार होते हैं उनमें हिस्सा लेकर ट्रायल देते रहे।

रेलवे से क्रिकेटर कैसे बनें?

रेलवे की टीम में ज्वाइन करने के लिए ट्रायल देना होता है जिसमें केवल रेलवे के ही लोग ट्रायल को दे सकते हैं। जिसमें आप भी हिस्सा ले सकते हैं अगर आप ट्रायल में चुन लिए जाते हैं तो आप रेलवे की ओर से रणजी ट्रॉफी खेल सकते हैं। अगर आप एक बार रणजी ट्रॉफी खेल लेते हैं और उसमें अच्छा प्रदर्शन करते हैं तो आपका सिलेक्शन भारतीय टीम में भी हो सकता है। इसलिए आपको किसी भी तरह मेहनत करके सबसे पहले रणजी ट्रॉफी के ट्रायल को निकालना होता है उसके बाद अगर आप उसमें एक बार सिलेक्ट हो जाते हैं तो आपको क्रिकेट में आगे बढ़ने से कोई नहीं रोक सकता।

यह भी पढ़ें: ये हैं दिग्गज़ क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी का सफरनामा

क्रिकेटर बनने के कुछ आसान टिप्स

Cricketer in Hindi बनने के लिए महत्वपूर्ण टिप्स इस प्रकार हैं:

  • बेहतर क्रिकेट खेलने के लिए बहुत ज्यादा अभ्यास की जरूरत होती है। इसलिए अगर आपको सफल Cricketer in Hindi बनना है तो आपको रोजाना करीब 8-10 घंटे क्रिकेट का अभ्यास करना चाहिए। इस खेल के लिए फुर्ती का होना जरूरी है और फुर्ती आपके अंदर तभी आएगी जब आप कड़ा अभ्यास करते हों।

  • रोजाना कोशिश करें कि आप कल से कुछ ज्यादा आज अच्छा प्रदर्शन करेंगे यानि कि अपने स्किल्स को सुधारने की कोशिश करेंगे और ऐसा करें जो आपके कल के प्रदर्शन से ज्यादा बेहतर हो। आप रोजाना अपने प्रदर्शन को बीते कल के अभ्यास से बेहतर करते हैं तो आपके खेलने का तरीका भी काफी लोगों से अलग होता रहेगा।

  • अगर आप एक स्टूडेंट हैं और पढ़ाई के साथ क्रिकेट को भी जारी रखना चाहते हैं तो इसके लिए आपको अपना समय अच्छे से मैनेज करना होगा तभी आप एक साथ दोनों चीजो को साथ में ले कर चल सकते हो। एक time table बनायें और उसी के अनुसार चलें। टाइम टेबल बनाने के लिए पहले अपने पूरे दिन के कामों को समझें और उसी हिसाब से समय निकालें।

  • अगर आप अभी क्रिकेट में नए हैं या आपने अभी-अभी ही खेलना शुरू किया है तो सुधार आपके अंदर जरुर होगा, लेकिन सुधार की गति धीमी होगी जब तक आप क्रिकेट के हर पहलू को अच्छे से समझ नही जाते। इसमें कोई घबराने वाली बात नही है क्योंकि सचिन, विराट, धोनी, कपिल जैसे खिलाड़ी भी शुरू में अच्छा नही खेलते होंगे सभी मेहनत और परिश्रम करके ही इस मुकाम तक पहुंचे हैं।

विराट कोहली क्रिकेटर कैसे बने?

5 नवंबर 1988 में दिल्ली में जन्मे विराट कोहली आज दुनिया के सबसे टैलेंटेड क्रिकेटर्स में जाने जाते है। विराट कोहली के पिता क्रिमिनल लॉयर थे और उनकी माता एक हाउसवाइफ हैं। वो अपने भाई बहनो में सबसे छोटे है और उनके बड़े भाई का नाम विकास कोहली और बड़ी बहन का नाम भावना है। जब कोहली 3 साल के थे तब से ही उन्होंने क्रिकेट खेलने के लिए बैट को हाथ में थाम लिया था और हमेशा अपने पिता को बॉलिंग करने के लिए कहा करते थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *