इंटरनेट क्या है

इंटरनेट का उपयोग आज पूरी दुनिया करती है, लेकिन क्या आपको पता है की Internet क्या है? अगर आपको नहीं पता तो कोई बात नहीं क्योकिं आज हम इस लेख में इंटरनेट क्या होता है? इससे जुड़ी सभी महत्वपूर्ण जानकारियों के बारे में जानेगे। जिसमे कई चीजे शामिल होंगी

इंटरनेट की खोज किसने की और इंटरनेट के माध्यम से हम क्या क्या कर सकते है। पुराने समय में हम बहुत सादा जीवन व्यतीत करते थे। एंटरटेनमेंट के नाम पर सिर्फ रेडियो हुआ करते थे। लेकिन जब से इंटरनेट की तकनीक हमारे बिच में आयी है, तब से हमें किसी भी चीज के लिए बहार भी नहीं जाना पड़ता है।

पहले हमें कोई भी सामान लेने के लिए दुकान पर जाना पड़ता था, लेकिन आज Internet की वजह से सभी चीजों को Online कर दिया है। आज आप ज्यादातर चीजों को Online खरीद सकते है। हालाकिं ज्यादातर इसकी वजह से हमें फायदे हुए है,

लेकिन कोई भी चीज हो अगर उसके फायदे होते है, तो उसके कुछ ना कुछ नुक्सान भी होते है। इसी तरह से इंटरनेट के फायदे और नुक्सान दोनों होते है, जो की हम इस लेख में जानेगे। लेकिन सबसे पहले हम जानते है, की

इंटरनेट क्या है | What Is Internet in Hindi

Internet एक Global Computer Network है, जो की पूरी दुनिया में एक Network जाल के माध्यम से जुड़ा हुआ है। यह मानकीकृत संचार प्रोटोकॉल का उपयोग करके दुनिया कई प्रकार की महत्वपूर्ण जानकारियां और सुविधाएँ प्रदान करता है। यह लाखो कंप्यूटर के साथ जुड़ा हुआ होता है। यहाँ पर आपको सभी तरह की जानकारिया मिलती है, जिन्हे आप Text, MP3, Audio, Video, और PDF आदि प्रकार से जानकारी प्राप्त कर सकते है।

Internet किसी भी एक व्यक्ति के आधीन नहीं होता है, और ना ही इंटरनेट को सरकार द्वारा चलाया जाता है। बल्कि इसके अंदर अलग अलग Private Company और Organization के Server होते है। इंटरनेट में जानकारी प्राप्त करने के लिए World Wide Web का उपयोग किया जाता है। इसके माध्यम से हम अपने किसी भी प्रोडक्ट का विज्ञापन उचित दर में किया जा सकता है। साथ ही आप अपने प्रोडक्ट के अलावा, लेख, रिपोर्ट आदि को प्रदर्शित करने के लिए भी यह एक सस्ता साधन है।

Internet Client Server की वास्तुकला पर आधारित है, जिसमे कंप्यूटर और मोबाइल के द्वारा इंटरनेट पर मौजूद सूचनाओं का उपयोग किया जाता है, उन्हें Client कहते है। और जहाँ पर सभी सूचनाएं सुरक्षित रखी जाती है, उन्हें Server कहा जाता है। जैसा की आपको पहले ही बताया गया है,

की इंटरनेट पर मजूद सूचनाओं को प्राप्त करने के लिए WWW (Word Wide Web) का उपयोग किया जाता है, जो की Web Browser में उपयोग किया जाता है। किसी भी तरह के Document को प्रदर्शित करने के लिए हाइपर टेक्स्ट का उपयोग किया जाता है। उम्मीद है, आपको समझ आ गया होगा, की इंटरनेट क्या है।

इंटरनेट की खोज किसने की 

इंटरनेट का आविष्कार एक बहुत बड़ी खोज है। इसके Invention में कई Scientists, Engineers, and Programmers का हाथ है। तब जाकर आज हम इंटरनेट का उपयोग कर पा रहे है। इंटरनेट की शुरुआत अमेरिका सेना द्वारा पेंटागन में अमेरिकी रक्षा विभाग में की गयी थी। इसके लिए सन 1957 में अमेरिका ने Advanced Research Projects Agency (ARPA) की स्थापना की थी।

जिसका मुख्य उद्देश्य इस प्रकार की तकनिकी को बनाना था, जिसमे दुनिया के सभी कंप्यूटर को एक दूसरे के साथ जोड़ा जा सके। इसके बाद सन 1969 में ARPANET की स्थापना की गयी थी, जिसके माध्यम से सभी कंप्यूटर को एक दूसरे के साथ जोड़ा जा सकता था, लेकिन सन 1980 तक इसका नाम इंटरनेट हो चुका था। दुनिया में सबसे पहले इंटरनेट की खोज Vint Cerf और Bob Khan (Robert Elliot Kahn) ने की थी, जिन्होंने TCP/IP प्रोटोकॉल का अविष्कार किया था।

इंटरनेट का इतिहास (History of Internet)

इंटरनेट का आविष्कार अमेरिकी सेना के लिए किया गया था। जिस समय अमेरिका में शीत युद्ध शुरू हुए थे, उस समय अमेरिकी सेना एक अच्छी और Trusted संचार सेवा बनना चाहती थी। जिसके लिए सन 1969 में ARPANET Network को बनाया गया है, यह शुरुआत में चार कंप्यूटर को जोड़कर बनाया गया था। इसके बाद जब इंटरनेट ने सही तरह से कार्य करना शुरू कर दिया थो इसके अंदर सन 1972 में और ज्यादा Computer को जोड़ा गया था

जिसमे कंप्यूटर की संख्या 37 हो गयी थी। धीरे धीरे इसका विस्तार बढ़ने लगा और यह नॉर्वे और इंग्लैंड तक फैल गया। इसके बाद सन 1974 में Arpanet को सभी सामान्य लोगो के लिए भी शुरू कर दिया गया, जिसे टेलनेट का नाम दिया गया। जब इंटरनेट को सामान्य लोगो के लिए शुरू किया गया तो इसके लिए कुछ नियम भी बनाये गए इन नियमो को Protocol कहते है। जिन्हे TCP/IP (Transmission Control Protocol/internet Protocol) का नाम दिया गया।

भारत में इन्टरनेट कब शुरू हुआ था?

भारत में 14 August सन 1995 को Videsh Sanchar Nigam Limited (VSNL) द्वारा Internet Service को सभी सामान्य लोगो को के लिए शुरू किया था।

इंटरनेट का फुल फॉर्म क्या है?

Internet का Full Form – Interconnected Network होता है। यह एक बहुत बड़ा नेटवर्क है, जिसे World Wide Web भी कहा जाता है। यह एक Interconnected Network का Collection होता है, जो की दुनिया के सभी Interconnected Gateways और Router के साथ जुड़ा हुआ होता है।

इंटरनेट की विशेषताएं

अभी तक आपने इंटरनेट से जुड़ी कई महत्वपूर्ण जानकारियों के बारे में जाना है, तो आइये अब जानते है, इंटरनेट की विशेषताएं –

1. World Wide Web

WWW का फुल फॉर्म World Wide Web होता है, जो की इंटरनेट का ही एक हिस्सा है। आप जब भी इंटरनेट में कुछ सर्च करते है, तो WWW की ममद से ही आपके सामने Document और विभिन्न प्रकार के डाटा आपके सामने दिखाए देते है। इसी के अंतर्गत Web Page भी आता है,

जो की एक प्रकार का Document होता है, यह HTML (Hyper Text Markup Language) Tag के जरयीए कार्य करता है। HTML की ममद से सभी डिज़ाइन को एक साथ लिंक किया जा सकता है, जिसके बाद आपके सामने एक अच्छा और त्रुटि मुख Web Page आता है। प्रत्येक Web Page की अपनी अलग पहचान होती है, जिसे URL (Uniform Resource Locator) के नाम से जाना जाता है।

2. E-Mail

E-Mail की फुल फॉर्म Electronic Mail होती है। Email के लिए बहुत से लोग इंटरनेट का Use करते है। Email का उपयोग Messages को Send और Receive करने के लिए किया जाता है। इसके अलावा ईमेल द्वारा किसी भी तरह के Document को भी send किया जा सकता है। इसके लिए आपको इंटरनेट पर पर Account बनाना पड़ता है,

जो की Internet के Mail Server में एक Domain के साथ Connect होता है। जैसे की अगर हम Google Account की बात करे तो यह आपको फ्री में Gmail बनाने का विकल्प प्रदान करता है। इसको बनाने के लिए आप username@gmail.com की तरह बना सकते है, इसके लिए आपको Username Unique चुनना पड़ता है, जो की पहले से इंटरनेट के सर्वर में मौजूद ना हो।

3. Telnet

Telnet एक इंटरनेट प्रोटोकॉल नेटवर्क है, जिसका पूरा नाम Teletype Network Protocol (Telnet) है। जो की एक कंप्यूटर को दूसरे कंप्यूटर के साथ एक्सेस करने के लिए Host में ममद करता है। Telnet Window होस्ट पर एक प्रोग्राम को Create करता है, जिसकी मदद से आप File को एक्सेस कर सकते है। Telnet को Libraries के द्वारा व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है, जिसकी वजह से यह Visitor को Information देखने के लिए Allow करता है।

4. File Transfer Protocol

File Transfer Protocol को FTP कहते है, जो की एक प्रकार का Internet Tool होता है। इसका उपयोग किसी भी File को एक Computer से दूसरे कंप्यूटर में ट्रांसफर या कॉपी करने के लिए किया जाता है। FTP बहुत ही सुविधाजनक Tool है

जो की बहुत ही आसानी से आपकी किसी भी फाइल को ढूंढ़कर आपको देता है, और आप उसको आसानी से Copy कर सकते है। ऐसे में आप अपने किसी भी Article या अन्य प्रकार के Data को Copy कर सकते है। आमतौर पर Software Companies FTP का उपयोग करती है।

5. Internet Relay Chat (IRC)

Internet Relay Chat (IRC) एक प्रकार का Chat Room होता है, जो की ज्यादातर वेबसाइट के अंदर Enable किया जाता है। जिसकी वजह से User सीधे अपनी समस्यां से सम्बंधित बात कर सकता है। IRC कई प्रकार के होते है, जिसकी मदद से आप Text या Document के जरिये दूसरे व्यक्ति के साथ अपनी समस्याओ को साझा कर उनका समाधान पा सकते है।

इंटरनेट कैसे काम करता है | How Internet Works in Hindi

इंटरनेट का उपयोग सभी करते है, लेकिन क्या आपको पता है, की इंटरनेट कैसे काम करता है। हालाकिं कई लोग ऐसा सोचते है, की इंटरनेट आसमान में मौजूद सेटेलाईट की ममद से चलता है, लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है। तो आज हम आपको पूरी जानकारी हिंदी में देने वाले है, की इंटरनेट कैसे कार्य करता है।

आपको बता दें, की इंटरनेट की लाइन समुन्द्र में बिछी हुई होती है, इस लाइन को Opticle Fibres Cable या Submarine Cable कहते है। इंटरनेट एक यूजर तक तीन कंपनियों से होकर पहुँचता है। इन कंपनियों को तीन हिस्सों में विभाजित किया गया है, जिसमे Tire 1, Tire 2, और Tire 3 शामिल है।

Tire 1 Company

इस Tire में वह सभी कंपनियां आती है, जो पुरे विश्व में अपना Optical Fiber Cable समुन्द्र के अंदर बिछा कर रखती है, जिसके माध्यम से पूरी दुनिया में सर्वर आपस में कनेक्ट रहते है।

Tire 2 Company

Tire 2 के अंतर्गत वह सभी कंपनियां आती है, जो हम तक इंटरनेट सेवा पहुँचती है, जिसमे कुछ मुख्य टेलिकॉम कंपनियां इस प्रकार है – BSNL, Airtel, Vodafone, Idea और Reliance

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *