आदमी है या सुपर कंप्‍यूटर! 18 साल में डॉक्‍टर और 22 साल में बन गया DM, फिर बनाई 26,000 करोड़ की कंपनी

रोमन सैनी ने 16 साल की उम्र में AIIMS में डॉक्‍टरी की पढ़ाई के लिए अपनी सीट पक्‍की कर ली. देश की सबसे कठिन आईएएस की परीक्षा भी सैनी ने सिर्फ एक बार में पास कर ली

एक अदद नौकरी पाने और करियर बनाने में सालों लग जाते हैं और कई लोगों की तो आधी जिंदगी इसमें खर्च हो जाती है. लेकिन, रोमन सैनी के लिए करियर बनाना चुटकियों का काम है. रोमन को अगर देश का सबसे बुद्धिमान और पढ़ाकू आदमी कहा जाए तो गलत नहीं होगा. दिमाग तो सुपर कंप्‍यूटर है. जिस उम्र में लोग ग्रेजुएशन पूरा करने में लगे होते हैं, उस उम्र में रोमन ने पूरे एक जिले का प्रशासनिक काम संभाल लिया था.

रोमन के आईक्‍यू लेवल का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि जिस उम्र के बच्‍चे 12वीं बोर्ड की तैयारी कर रहे होते हैं, उस उम्र में उनका एडमिशन MBBS के लिए हो गया था. रोमन सैनी ने 16 साल की उम्र में AIIMS में डॉक्‍टरी की पढ़ाई के लिए अपनी सीट पक्‍की कर ली. 18 साल की उम्र में पढ़ाई पूरी करके AIIMS के नेशनल ड्रग डिपेंडेंस ट्रीटमेंट सेंटर (NDDTC) में 6 महीने तक काम किया. इसके बाद भी उनकी आगे बढ़ने की इच्‍छा बंद नहीं हुई. उन्‍होंने बेहद कम समय में दुनिया की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक को पास कर लिया.

22 साल में बन गए कलेक्‍टर

देश की सबसे कठिन आईएएस की परीक्षा भी सैनी ने सिर्फ एक बार में पास कर ली. सभी प्रोसीजर पूरा करने के बाद और ट्रेनिंग पूरी करके सैनी महज 22 साल की उम्र में एक जिले के कलेक्‍टर बन गए. UPSC CSE परीक्षा पास करने के बाद उनकी तैनाती मध्‍य प्रदेश के जिला कलेक्‍टर के रूप में कर दी गई. इस नौकरी के बावजूद सैनी का मन रुकने को नहीं किया और इस बार नौकरी के बजाए बिजनेस में हाथ आजमाया

.शुरू किया सबसे सफल एडुटेक स्‍टार्टअप

कलेक्‍टर बनने के बाद भी सैनी रुके नहीं और उन्‍होंने देश का सबसे सफल एडुटेक स्‍टार्टअप अनअकेडमी (Unacademy) शुरू किया. उन्‍होंने अपने मित्र गौरव मुंजाल के साथ Unacademy में फंडिंग की और इस कंपनी को बढ़ाकर बड़ा कर दिया. आज Unacademy का मार्केट कैप बढ़कर 26 हजार करोड़ रुपये पहुंच गया है

बनाने वाले गौरव मुंजाल जो पहले एक यूट्यूब चैनल चलाते थे. सैनी की मदद से उन्‍होंने इस कंपनी की स्‍थापना की. इसका मकसद युवाओं को ज्‍यादा पैसा खर्च किए बिना ही पढ़ाई का बेहतर प्‍लेटफॉर्म उपलब्‍ध कराना है. कोचिंग संस्‍थान UPSC की तैयारियों के लिए जहां छात्रों से लाखों रुपये लेते हैं, वहीं Unacademy के प्‍लेटफॉर्म पर उन्‍हें कम पैसों में बेहतर पढ़ाई का माहौल और मैटर दोनों मिल जाते हैं. गौरव भी Unacademy को सक्‍सेज बनाने का क्रेडिट रोमन सैनी को ही देते हैं

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *