अभी भी डूबी है दिल्ली, पानी थमा पर चुनौतियां कायम, बाढ़ से जुड़े जरूरी सवालों के जवाब पढ़िए

दिल्ली में यमुना नदी का जलस्तर कम होने से राहत मिलना शुरू हो गई है। शनिवार को कई रास्तों से पानी हटने के बाद उन्हें फिर से खोला गया, लेकिन अभी भी कई रास्ते बंद हैं। उम्मीद की जा रही है कि आज शहर के अन्य रास्तों को भी खोला जाएगा।

नई दिल्ली: दिल्ली में यमुना नदी में जलस्तर घट रहा है लेकिन अब भी खतरे के निशान से ऊपर है। शुक्रवार को बंद हुए कई रास्तों को शनिवार को खोल दिया गया। बाढ़ से जुड़ी ऐसी जानकारी सवाल-जवाब के रूप में पेश है जो आपके काम की हो सकती है।

1. दिल्ली में यमुना की रविवार रात तक की स्थिति क्या है?

दिल्ली में शनिवार शाम 6 बजे यमुना का जलस्तर कम होकर 206.92 मीटर पर आ गया। अभी भी यह खतरे के निशान से ऊपर है। जलस्तर कम होने की वजह से कुछ जगह बाढ़ का पानी कम हुआ है। उम्मीद है कि यही स्थिति रही तो रविवार शाम तक कॉलोनियों में भरा पानी कम हो जाएगा। शनिवार तड़के 1 बजे जलस्तर 207.92 मीटर था।

मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि अगले चार दिन हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में भारी बारिश होगी। अगर ये बारिश उन इलाकों में हुई, जहां से पानी हथिनी कुंड बैराज के रास्ते यमुना में आता है तो फिर यमुना का जलस्तर बढ़ सकता है। ये इस बात पर निर्भर करेगा कि वहां किन इलाकों में और कितनी बारिश होती है।

यमुना का जलस्तर कम होने के बाद कई बंद रास्ते खुल गए हैं। इनमें रिंग रोड का एक हिस्सा शामिल है। भैरों रोड, आईटीओ ब्रिज, गीता कॉलोनी ब्रिज फिर ट्रैफिक के लिए खोल दिए गए हैं। आईटीओ पर इनकम टैक्स ऑफिस के सामने की सड़क पर अभी पानी पूरी तरह नहीं निकला है लेकिन ट्रैफिक चालू कर दिया गया है।

अगर जलस्तर कम होता है तो आने वाले दिनों में सबसे बड़ी चुनौती सड़कों पर इकट्ठा हुई गाद को हटाने की होगी। जलभराव से सड़कों पर गंदगी हो जाती है। उसे हटाए बिना ट्रैफिक को शुरू नहीं किया जा सकता। इसके अलावा जिन इलाकों में जलभराव रहा है, वहां जलजनित बीमारियां सिर उठा सकती हैं।

एनबीटी के टविटर हैंडल को फॉलो करें। वहां आपको ट्रैफिक और जलस्तर से जुड़े अपडेट मिलते रहेंगे। उन अपडेट के आधार पर बंद और खुले रास्तों की जानकारी मिल सकेगी। जहां तक संभव हो दिल्ली और एनसीआर आने-जाने के लिए मेट्रो का उपयोग कर सकते हैं। सभी मेट्रो लाइनों पर ट्रेनें सामान्य रफ्तार से चल रही हैं।

सबसे ज्यादा प्रभावित भैरों रोड से लेकर मजनूं का टीला के बीच का रिंग रोड का हिस्सा है। सिविल लाइंस, यमुना बाजार, निगम बोधघाट और आसपास के रिहाइशी इलाकों में जलभराव है जबकि नाले के बैक मारने से हकीकत नगर, मुखर्जी नगर जैसी कॉलोनियों में गंदा पानी भर गया है। यमुनापार में नोएडा रोड और आसपास राहत शिविर लगाए गए हैं, जिनमें यमुना खादर में रहने वाले झुग्गीवासियों को रखा गया है। उत्तर पूर्वी दिल्ली के गढ़ी मेंडू और आसपास के कुछ इलाकों में जलभराव का असर है।

भैरों रोड, कश्मीरी गेट के सामने, गीता कॉलोनी रोड, आईटीओ को ट्रैफिक के लिए खोल दिया गया

– प्रगति मैदान टनल को ट्रैफिक के लिए खुला रखा गया है।

निगम बोध घाट अब भी बंद है।

– आईएसबीटी बस अड्डे से बसें अब भी नहीं चल रही हैं।

– पुराने रेलवे ब्रिज के बंद होने से कई ट्रेनें अब भी कैंसल हैं।

– जरूरी चीजों के अलावा बाकी भारी गाड़ियों की एंट्री अभी बंद है।

– यमुना बाजार और निचले इलाकों में रह रहे लोग अभी अपने घरों में नहीं लौट पाए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *